Shahad देसी शहद

Shahad Ke Fayde: शहद का उपयोग सदियों से होता रहा है, केवल भोजन बनाने में ही नहीं अपितु इसका उपयोग औषधि के रूप में भी किया जाता रहा है, साथ ही शहद खाने से शरीर में ताकत भी आती है। यह एक बहुत ही लाभकारी (Health Benefits of Honey in Hindi) प्राकृतिक यौगिकों में से एक है, जिसका प्रयोग रिफाइंड शुगर की जगह किया जाता है। यदि रिफाइंड शुगर या परिष्कृत चीनी के बजाय शुद्ध शहद का उपयोग करेंगे तो यह काफी स्वास्थ्यवर्धक सिद्ध हो सकता है।

यह एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसके बारे में शायद ही किसी को पता हो, यह आसानी से उपलब्ध होता है और लगभग प्रत्येक घर की रसोई में पाया जाता है।शहद स्वास्थ्य लाभ के साथसाथ सबसे लोकप्रिय और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला स्वीटनर है। यह दुनिया भर में कई संस्कृतियों द्वारा उपयोग किया जाता है, साथ ही यह कई पारंपरिक दवाओं के लिए एक आधार के रूप में, विशेष रूप से आयुर्वेद में प्रयोग किया जाता है। शहद के स्वास्थ्य लाभ और फायदे सदियों से मूल्यवान रहे हैं।आइये जानते हैं शहद के बारे में और इसे खाने के फायदों के बारे में।

कुछ रोचक तथ्य

  • शहद एकमात्र ऐसा भोजन है जो कीट निर्मित होता है
  • शुद्ध शहद खराब नहीं होता
  • प्राकृतिक शहद के अलगअलग स्वाद और रंग होते हैं
  • मधुमक्खियाँ सर्दियों में केवल शहद पर जीवित रहती हैं
  • शहद एक ओषिधि के रूप में भी प्रयोग होता है
  • सभी मधुमक्खियाँ शहद का निर्माण नहीं करती

Shahad Ke Fayde – शहद के फायदे

शहद के सबसे पुराने साक्ष्य लगभग 5000 साल पहले के हैं, जब पुरातत्वविदों ने जॉर्जिया में एक कब्र में इसके निशान पाए थे। यदि प्राचीन यूनानी धर्म ने इसे देवताओं के भोजन के रूप में माना, तो हिंदू धर्म में इसे अमरता (पंचामृत) के पांच अमृतों में से एक के रूप में जाना जाता है। शहद सबसे पेचीदा और दिलचस्प खाद्य पदार्थों में से एक है क्योंकि अनुसंधान और इतिहास में इसके चारों ओर परस्पर विरोधी तथ्य हैं। आइये शहद के बारे में कुछ आश्चर्यजनक तथ्यों पर एक नज़र डालते हैं

शहद खाने के फायदे – Benefits of Honey in Hindi

शहद में विटामिन , बी, सी, आयरन, कैल्शियम, सोडीयम फास्फोरस, आयोडीन पाए जाते हैं। रोजाना शहद का सेवन शरीर में शक्ति, स्फूर्ति, और ताजगी पैदाकर रोगों से लड़ने की शक्ति भी बढ़ाता है।आइये जानते हैं शहद के फायदे

वेट मैनेजमेंट में उपयोगी

क्या आप जानते हैं कि आप शहद का उपयोग वेट मैनेजमेंट के लिए भी कर सकते हैं? प्रसिद्ध लेखक और पोषण विशेषज्ञ माइक मैकइन्स के अनुसार, जब आप सो रहे होते हैं तब भी शहद हमारे शरीर की वसा को जलाता है। यह वजन कम करने के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक है। डॉक्टर भी यह सलाह देते हैं कि, बिस्तर पर जाने से पहले एक चम्मच शहद जरूर लेना चाहिए।

आप सुबह खाली पेट गर्म पानी में शहद डालकर इस पेय का सेवन भी कर सकते हैं। सुबह सुबह सबसे पहले ऐसा करने से, मेटाबोलिज्म बढ़ता है, जो तेजी से वजन कम करने में मदद करता है। शहद आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए भी अच्छा है।

शहद और निम्बू का पेय: पानी पीना भी आपके वेट मैनेजमेंट में सहायता कर सकता है और यदि आप शहद और निम्बू का पानी पिएंगे तब यह आपके स्वस्थ वजन को बढ़ावा देने में सहायता करेगा। आप उच्चकैलोरी, शर्करा युक्त सोडा और अन्य मीठे पेय को शहद और निम्बू के पानी से बदल कर अपने कैलोरी की मात्रा और शुगर की मात्रा को कम कर सकती हैं जो एक प्रकार से आपके वजन को नियंत्रित करने में आपकी सहायता करेगा

इम्म्यून सिस्टम/प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है

शहद में अनगिनत औषधीय गुण होते हैं जो स्वाभाविक रूप से गले में खराश को ठीक करने में मदद करते हैं। इसकी एंटीऑक्सिडेंट और बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति वायरस, बैक्टीरिया और कवक के कारण होने वाले इन्फेक्शन/संक्रमण से लड़ने में मदद करती है। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों के अनुसार, बक्व्हीट (एक प्रकार का शहद) में सबसे अधिक एंटीऑक्सिडेंट होते हैं।

जब दैनिक रूप से इसका सेवन किया जाता है तो लंबे समय तक यह इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए फायदेमंद हो सकता है।यही कारण है कि शहद को सबसे अच्छा इम्युनिटी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों में से एक माना जाता है।इसलिए यह सलाह दी जाती है कि नाश्ते से पहले या व्यायाम से पहले शहद का सेवन करना चाहिए जिससे पूरे दिन के लिए अतिरिक्त ऊर्जा प्राप्त हो सके। यह क्लींजिंग टोनर के रूप में भी काम करता है जो बच्चों की इम्युनिटी/प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाता है।

कोलेस्ट्रॉल को सुधारने में मदद करे

उच्च एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर हृदय रोगों को बढ़ा सकता है।यह कोलेस्ट्रॉल एथेरोस्क्लेरोसिस में प्रमुख भूमिका निभाते हैं, जो धमनियों या आर्टरीज में फैट बिल्डअप करता है जो दिल के दौरे और स्ट्रोक का कारण बन सकता है। कई अध्ययनों से पता चलता है कि शहद आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार कर सकता है। यह कुल औरखराबएलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है, औरअच्छाएचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है।

त्वचा और चेहरे को पोषण दे

शहद की मॉइस्चराइजिंग और पौष्टिक गुणों के कारण इसका उपयोग त्वचा के लिए बहुत उपयोगी होता है। शहद सबसे अच्छा प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र है, विशेष रूप से यदि आपकी त्वचा शुष्क है और इसे लगाना भी बहुत आसान है। कच्चा शहद केवल रोमछिद्रों को बंद करता है, बल्कि यह सूखी त्वचा को मॉइस्चराइज़ करने में भी मदद करता है।

यह सर्दियों के दौरान फटे होंठों को ठीक करने में भी मदद करता है। कई लोग स्किन टोन करेक्शन के लिए भी शहद मास्क का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक होने के नाते, यह घावों, चोटों, कटे हुई त्वचा, जलने और अन्य संक्रमणों के उपचार के लिए भी उपयोगी है।

याददाश्त बढ़ाये

हम जो भी कहते हैं वह बहुत ही महत्वपूर्ण होता है इसलिए उन खाद्य पदार्थों का सेवन करना बहुत महत्वपूर्ण होता है जो बुढ़ापे में हमारे मानसिक स्वास्थ्य को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। जैसे कि हमने ऊपर बताया है कि शहद एक प्राकृतिक स्वीटनर होता है और इसके कई स्वास्थ्य लाभ हैं, जिनमें मेमोरी/स्मृति और एकाग्रता को बढ़ावा देना शामिल है।

शहद केवल दिमागी शक्ति और याददाश्त बढ़ाता है बल्कि आपको पूरी तरह से एक स्वस्थ भी बनाता है। शहद का सेवन मेटाबोलिक स्ट्रेस को रोकता है और मस्तिष्क को शांत करने में मदद करता है, जिससे लंबे समय के लिए स्मृति को बढ़ाने में मदद मिलती है। शहद में उपस्थित प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट और चिकित्सीय गुण स्मृति को नुकसान (मेमोरी लॉस को रोकते हैं) पहुंचाने वाली कोशिकाओं को संचरित करते हैं।

खांसी के लिए घरेलू उपाय

शहद को सूखी खांसी के साथसाथ गीली खांसी के उपचार के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपचारों में से एक माना जाता है। एक शोध से यह भी पता चला है कि एक चम्मच शहद पीने से गले में जलन कम हो सकती है। शहद खाँसी के लिए पसंदीदा प्राकृतिक उपचार है, खासकर बच्चों के लिए, क्योंकि यह रात की खाँसी को दूर करने में मदद करता है, जिससे अच्छी नींद आने में सहायता मिलती है।

डैंड्रफ के लिए प्राकृतिक घरेलू उपचार

क्या आप जानते हैं कि बालों के लिए शहद कितना फायदेमंद हो सकता है? शहद रूसी के लिए सबसे अच्छे प्राकृतिक घरेलू उपचारों में से एक है। यह केवल रूखे बालों को पोषण प्रदान करता है बल्कि यह आपके बालों को चिकने और मुलायम भी बनाता है। बालों को झड़ने से रोकने के लिए आप ग्रीन टी के साथ शहद और लैवेंडर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके लिए शहद के 2 बड़े चम्मच को वनस्पति तेल के साथ बराबर मात्रा में मिलाएं और इसे अपने बालों पर लगाएं। इस हेयर मास्क को 15 मिनट तक लगा रहने दें, और फिर शैम्पू करने से पहले इसे धो दें।

शीघ्र घाव भरे

शहद में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जिसके कारण शहद का इस्तेमाल घावों को भरने के लिए किया जाता है। त्वचा की किसी भी प्रकार की चोट के बाद, आपकी त्वचा पर रहने वाले बैक्टीरिया घाव की जगह को इन्फेक्टेड कर सकते हैं। शहद, इन जीवाणुओं को नष्ट करने के लिए उपयोग किया जाता है।

नेचुरल स्लीप हेल्पर

यदि आप अच्छे से सो नहीं पते हैं या आपको सोते समय परेशानी होती है? इसका इलाज शहद की सहायता से किया जा सकता है बस आपको सोने से पहले गर्म दूध और शहद से बने पेय को पीना है। सदियों से, लोग इस पेय का उपयोग सोने में मदद करने के लिए करते रहे हैं। और यह पेय बनाने में भी काफी आसान होता है। आपको बस एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच शहद डालकर, या एक कप कैमोमाइल चाय में 1 या 2 चम्मच शहद डालकर पीना है। ऐसा करने से आपको अच्छी नींद आएगी।

साइनस की समस्या को दूर करे

आजकल बढ़ते प्रदूषण और धूल के कारण बहुत से लोग साइनस से संबंधित समस्याओं से पीड़ित हैं। साइनस हमारे स्कल/खोपड़ी में छोटे छोटे गुहा होते हैं जो हमारे श्वसन तंत्र को एलर्जी और संक्रमण से बचने के लिए म्यूकस या बलगम का निर्माण करते हैं, जब हमे किसी प्रकार का इन्फेक्शन होता है तो उस इन्फेक्शन के वायरस साइनस को ब्लॉक् कर देते हैं जो संकट का कारण बनता है।

इसके इलाज के लिए शहद का उपयोग किया जाता है क्योंकि शहद एक प्राकृतिक एंटीबैक्टीरियम और एंटीसेप्टिक होता है जो संक्रमण को दूर करने और सूजन को कम करने में मदद करता है। शहद सभी प्रकार के गले के इन्फेक्शन्स को भी शांत करता है और खांसी को कम करता है और इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है जिससे साइनस की समस्याएं कम होती हैं।

मसूड़ों के रोगों में मदद करे

शहद के एंटीबैक्टीरियल और इन्फेक्शन हीलिंग गुण घावों को भरने और उनके इलाज में मदद करते हैं। शहद के नियमित उपयोग से दांतों और मसूड़ों की बीमारियों जैसे मसूड़े की सूजन, ब्लीडिंग और प्लाक का काफी हद तक इलाज किया जा सकता है।

शहद एंटीसेप्टिक हाइड्रोजन पेरोक्साइड को रिलीज करने के लिए जाना जाता है जो एंटीमाइक्रोबियल एजेंट के रूप में कार्य करता है और बैक्टीरिया के विकास को रोकता है। विशेषज्ञों की सलाह है कि कच्चे शहद के पानी का उपयोग माउथवॉश के रूप में किया जाए। इसके अलावा प्रभावित मसूड़ों पर सीधे शहद रगड़ने से दर्द और सूजन और अन्य पीरियडोंटल बीमारियों से तुरंत राहत मिलती है।

नेचुरल एनर्जी ड्रिंक

शहद को नेचुरल एनर्जी के एक उत्कृष्ट स्रोत के रूप में जाना जाता है क्योंकि इसमें मौजूद प्राकृतिक अनप्रोसेस्सेड शुगर सीधे ब्लडस्ट्रीम में प्रवेश करती है और जो शरीर में ऊर्जा को एकदम से बढ़ा सकती है। यह त्वरित बढ़ावा आपके कसरत और व्यायाम के लिए एक चमत्कार की तरह काम करता है, खासकर एन्ड्योरेंस एक्सरसाइज में।

एक्जिमा को नियंत्रित करने और रोकने में मदद करे

एक्जिमा एक प्रकार की त्वचा की स्थिति है जो लाल, खुजली, परतदार त्वचा का कारण बनती है जो बहुत बार असुविधा का कारण बनती है। आमतौर पर, छोटे बच्चे और किशोर एक्जिमा से पीड़ित होते हैं। शहद की सहायता से एक्जिमा का इलाज किया जा सकता है इसके लिए कच्चे शहद और कोल्डप्रेस जैतून के तेल का मिश्रण बना लें और प्रभावित त्वचा पर लगाएं।

शहद गंदगी को हटाकर त्वचा को चिकना और मुलायम बनाता है और प्राकृतिक क्लींजर का काम करता है। मृत कोशिकाओं को हटाने के लिए इसे जई के साथ मिलाकर त्वचा की एक्सफोलिएशन के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। शहद का नियमित उपयोग एक्जिमा को दोबारा होने या वापस आने से रोकता है।

वैसे तो शहद का किसी भी रूप में सेवन शरीर के लिए उपयोगी (Shahad Ke Fayde) होता ही है, लेकिन ऐसे कई और तरीके हैं जिनके माध्यम से शहद आपके शरीर के लिए और उपयोगी हो सकता है। डॉक्टर आमतौर पर सुबहसुबह गुनगुने पानी के साथ कम से कम 50 ग्राम शहद पीने की सलाह देते हैं। यह पाचन तंत्र को साफ करता है और ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है।

आमतौर पर, भोजन से एक या दो घंटे पहले शहद का सेवन करना चाहिए, ताकि पहले खाए गए भोजन को पहले सेटल करने में मदद मिले। हमेशा यह सलाह दी जाती है कि शहद को उबालना नहीं चाहिए क्योंकि उच्च तापमान सभी पोषक तत्वों और विटामिन को नष्ट कर देता है। तो आज ही शहद लाइए और इसके फायदों को उठाइये।

Weight 0.5 kg
Dimensions 6 × 6 × 5 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Shahad देसी शहद”

Your email address will not be published. Required fields are marked *